Why the Indian cricket team wears a blue jersey ।भारतीय क्रिकेट टीम चिली रंग की जर्सी में ही पहनती है - Patel ji

Why the Indian cricket team wears a blue jersey ।भारतीय क्रिकेट टीम चिली रंग की जर्सी में ही पहनती है


खेलों में भारत की जर्सी का रंग नीला ही क्‍यों रहता है जबकि तिरंगे में केसरिया सफेद और हरा रंग होता है
आज हम आपको बताने वाले हैं की भारतीय टीम का जर्सी का रंग नीला ही क्यों होत।

         



भारतीय क्रिकेट टीम की आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019 की दूसरी जर्सी पर राजनीतिक हंगामा शुरू हो रहा है इस बार क्रिकेट वर्ल्‍ड कप में आईसीसी ने एक जैसे रंग वाली जर्सी पहनने वाली टीमों के बीच होम और अवे मैच का कॉन्‍सेप्‍ट रखा है ऐसे में इंग्‍लैंड के पास होम टीम का दर्जा है तो भारत अफगानिस्‍तान व श्रीलंका को अवे टीम बनाया गया है ऐसे में 30 जून को इंग्‍लैंड के खिलाफ होने वाले मैच में भारतीय टीम भगवा ऑरेंज जर्सी पहनकर उतरेगी इस पर कांग्रेस और समाजवादी पार्टी का कहना है कि बीसीसीआई ने नरेंद्र मोदी सरकार को खुश करने के लिए भगवा रंग चुना है हालांकि आईसीसी ने साफ कर दिया कि दूसरी जर्सी के लिए कलर कॉम्बिनेशन उसकी ओर से दिया गया था हालांकि विवाद अभी थमता नहीं दिख रहा है।


भारतीय टीम का जर्सी मेरा क्यों होता है

क्रिकेट टीम की नहीं बल्कि फुटबॉल और हॉकी में भी में भारतीय टीमें नीले रंग की जर्सी ही पहनती हैं हालांकि फुटबॉल व हॉकी में कई बार टीम को सफेद व पीले रंग की जर्सी पहने भी देखा गया है लेकिन मुख्‍य रंग नीला ही है दरअसल यह रंग राष्‍ट्रीय ध्वज तिरंगे में मौजूद अशोक चक्र से लिया गया है तिरंगे में केसरिया सफेद और हरे रंग की पट्टियां हैं केसरिया रंग वीरता और हरा खुशहाली का प्रतीक है तो सफेद शांति का प्रतीक है।
भारत में कई राजनीतिक दलों ने भी भगवा रंग को अपने प्रतिनिधि से जोड़ रखा है अब बचा सफेद लेकिन यह रंग रंगीन जर्सी से तालमेल नहीं रख पाता पड़ोसी देश पाकिस्‍तान ने पहले ही हरे रंग का अपना रखा है ऐसे में किसी भी तरह के विवाद वसे बचने के लिए अशोक चक्र का नीला रंग खेलों में टीम इंडिया का प्रतीक बन गया


भारतीय टीम का जर्सी पीला रह चुका है



भारतीय जर्सी में पीला रंग भी शामिल रहा है 1985 में भारत ने जो वर्ल्‍ड चैंपियनशिप खेली थी उसमें भारतीय क्रिकेट टीम की जर्सी हल्‍के नीले रंग के साथ ही पीला रंग भी शामिल था बाद में जब 1992 वर्ल्‍ड कप से क्रिकेट में रंगीन जर्सी शुरू हो गई इसमें इंडिया पीले रंग से लिखा था 1996 1999 की जर्सी में भी नीले रंग की जर्सी में पीला रंग काफी उभरा हुआ था

         

2003 के वर्ल्‍ड कप में भी इंडिया पीले रंग से लिखा था जबकि कंधे के पास गहरे नीला रंग था इसके बाद से धीरे-धीरे भारत की जर्सी से पीला रंग गायब होता गया और इसमें थोड़ी-थोड़ी जगह केसरिया व हरे रंग को मिलती रही हालांकि यह जगह केवल शैड्स के रूप में ही रही साथ ही भारतीय हॉकी भी कई मैचों में पीले रंग की जर्सी पहनती रही है

दोस्तों हमारा आर्टिकल कैसा लगा कमेंट कर कर बताएं ऐसी आर्टिकल पढ़ने के लिए हमारा वेबसाइट को सब्सक्राइब करें।

Previous article
Next article

Leave Comments

Post a Comment

Hi my friend

Articles Ads

Articles Ads 1

Articles Ads 2

Advertisement Ads